Header Ads

जानिए कौन हैं हार्दिक पटेल

जानिए कौन हैं हार्दिक पटेल (kaun hai hardik patel)

आज से 2 महीने पहले हार्दिक पटेल का नाम किसी ने सुना भी नहीं होगा| Hardik Patel तब आम आदमी थे, लेकिन आज पूरा देश उसे जानती है| हर न्यूज़ चैनल में उसके बारे में न्यूज़ आ रही है| शायद आपको पूरी कहानी नहीं पता होगी, चलिए मै आपको हार्दिक पटेल की सच्ची कहानी बतलाती हूँ|
हार्दिक पटेल 22 साल का नौजवान है, जो गुजरात के अहमदाबाद में रहता है| Hardik Patel ने सरकार से पाटीदार या पटेल समुदाय के लोगों के लिए OBC कोटा की मांग की है| उसने इसके खिलाफ एक मुहीम छेड़ दी है, जिसमें उसके साथ पूरा गुजरात खड़ा है| अहमदाबाद में सभी पटेल व पाटीदार सड़क पर उतर आये है और दलित, आदिवासी और नीचली जाति को मिले रिजर्वेशन के खिलाफ आन्दोलन कर रहे है| इस आन्दोलन की शुरुवात हार्दिक पटेल ने की है| Hardik Patel का कहना है कि पटेल लोग इस रिजर्वेशन की वजह से पीछे होते जा रहे है| कॉलेज, सरकारी नौकरियों में रिजर्वेशन के चलते उन्हें अपना अधिकार नहीं मिल रहा है| उसका कहना है, पटेल विद्यार्थि 90% लाकर भी MBBS  में दाखिला नहीं ले पाता, जबकि रिजर्वेशन वाले 45% में दाखिला ले लेते है| हार्दिक पाटीदार अनामत आन्दोलन समिति (PAAS) का संयोजक है|

हार्दिक पटेल

Hardik Patel In Hindi

Hardik Patel एक बीकॉम ग्रेजुएट है, जो अपने पिता के कारोबार में हाथ बटाते है| हार्दिक पटेल ने ग्रेजुएशन अहमदाबाद के सहजानंद कॉलेज से 50% में पास किया था| हार्दिक पटेल एक सामान्य परिवार से है, Hardik Patel के पिता खेती भी करते है|
हार्दिक पटेल का राजनीती से जुड़ाव –
हार्दिक पटेल सरदार पटेल ग्रुप (SPG) के मेम्बर है, साथ ही उसके गावं विरामगम के नौजवानों के प्रेसिडेंट है| Hardik Patel इसकी वजह से फेमस नहीं हुए है| जुलाई में हार्दिक ने PAAS के द्वारा गुजरात सरकार को हिला दिया| PAAS ने सरकार के सामने पटेल व पाटीदार के रिजर्वेशन बात रखी, और इसमें उनका साथ दे रहा है बीजेपी| बीजेपी की वजह से PAAS को आज सभी जाने लगे है और उनकी बात देश के हर व्यक्ति को सुने दे रही है| एसपीजी के लोग इसके विरुद्ध में थे और उन्होंने Hardik Patel के खिलाफ FIR भी डाल दी थी| एसपीजी का कहना था कि हार्दिक पटेल ने उनसे 2 लाख रुपय लिए थे| जो अभी तक वापस नहीं किये है| Hardik Patelका इस पर कहना था कि यह झूटी बात है और FIR प्रदेश की सरकार की आज्ञा से हुई है ताकि उसके आन्दोलन को बंद किया जा सके| 1970 में कांग्रेस ने पटेल को सपोर्ट किया था, लेकिन जैसे जैसे सत्ता बढ़ी कांग्रेस ने अपना सपोर्ट हरिजन, आदिवासी व मुस्लिम को देना शुरू कर दिया| कांग्रेस से धोखा मिलने के बाद पटेल लोगों ने बीजेपी का साथ माँगा, जिसके बदले में बीजेपी को वोट मिले और सत्ता मिली|

सरकार के हिसाब से गुजरात में 15% पटेल लोग रहते है| पटेल लोग पहले सिर्फ किसानी का काम करते थे, लेकिन अब वहां बड़े बड़े उद्योग, हीरे के व्यापारी पटेल है| पिछले 2 दशक से जब से नरेन्द्र मोदी ने गुजरात को संभाला है, पटेल की स्थिति बहुत कुछ सुधर चुकी है| आज गुजरात में 120 बीजेपी नेता में से 40 पटेल है, यहाँ तक की वहां की मुख्यमंत्री आनंदी बेन भी पटेल है|
आखिर आन्दोलन क्यूँ क्यों किया हार्दिक पटेल ने?
गुजरात में रहने वाले अच्युत याग्निक जो पटेल है, अपने बच्चों को इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज में दाखिला दिलाता है| वह चाह्ता है उसके बच्चे अच्छे से पढ़े और उन्हें माइग्रेशन मिले| जिससे वे बाहर विदेश में जाकर पढाई कर सके| वहां पर रहने वाले ज्यादातर पटेल कम उम्र से ही काम करने लगते है, ज्यादा पैसे ना होने की वजह से वे पढाई नहीं कर पाते है| लेकिन अब वे बदलाव चाहते है और चाहते है दूसरों की तरह भी पढ़े और आगे बढ़े|
सुप्रीम कोर्ट ने कहा है 50% से ज्यादा रिजर्वेशन किसी प्रदेश को नहीं मिल सकता| अभी गुजरात में 27 % OBC कोटा है| अगर इसमें पटेल को डालेंगे, तो दुसरे जाति वालों को निकालना होगा| इससे दूसरी जाति वाली भी आन्दोलन में उतरने को तैयार बैठी है|
Hardik Patel जैसे लोग अपने हक़ के लिए तो लड़ रहे है, लेकिन इससे जातिवाद को बढ़ावा मिल रहा है| गुजरात में वैसे ही जाति को ले के  बहुत लड़ाई है, और हार्दिक की वजह से पुरे देश में यह फ़ैल रही है| आरक्षण की वजह से तो आज सामान्य वर्ग भी परेशान है, तो कोटा मांग कर किसी परेशानी का हल नहीं निकल सकता| सरकार को इस बारे में सोचकर सही निर्णय निकालना चाहिए|
हार्दिक पटेल की इस रैली के कारण गुजरात मे दंगे होने की खबर आई है, जिस्मो 10 लोगो की म्रत्यु भी हो गई है|
आपकी क्या राय है हार्दिक पटेल के इस कदम से हमें जरुर बताएं| आप अपनी बात कमेंट बॉक्स में जाकर लिखें|

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.