Header Ads

डेंगू बुखार के लक्षण एवम उपचार

डेंगू बुखार के लक्षण एवम उपचार (Dengu ke lakshan aur upchar in Hindi)

मच्छरों से फैलने वाली डेंगू नाम की बीमारी आजकल बहुत आम हो गई, यह भारत में बहुत तेजी से फ़ैल रही है| डेंगू बुखार को अक्सर लोग समझ नहीं पाते है और फिर देर हो जाने पर यह जानलेवा हो जाती है| डेंगू संक्रमित बीमारी है, जो मच्छरों के काटने से होती है, जिसके बाद व्यक्ति को बुखार आने लगता है| पूरी दुनिया में हर साल करोड़ों लोग dengue का शिकार होते है और सही इलाज न मिल पाने से अपने जीवन से हाथ धो बैठते है| कुछ साल पहले हमारे देश के प्रसिध्य निर्माता यश चोपड़ा जी का निधन भी डेंगू बुखार (dengue fever) की वजह से हो गया था| डेंगू के बारे में लोगों को ज्यादा जानकारी नहीं होती है तो जरुरत है कि हम उन्हें इस बीमारी के बारे में जागरुक करें|

डेंगू बुखार के लक्षण (Dengue Fever Symptoms)-

डेंगू बुखार के लक्षण के कई ऐसे lakshan होते है, जो हम समझ नहीं पाते है| जैसे कि
  • सर दर्द
  • तीव्र बुखार
  • जोड़ो में दर्द
  • उलटी/दस्त
  • पुरे शरीर में दर्द
  • आँखों में दर्द
  • शरीर के कुछ हिस्सों पर लाल लाल चकते निकल आना
  • कई बार नाक से खून आता है
सामान्य तौर पर dengu bukhar के लक्षण मच्छर काटने के 7-8 दिन बाद दिखाई देते है| कई बार ये बहुत सामान्य होते है, जिसे हम नार्मल फ्लू समझते है| उम्र व शरीर के हिसाब से ये लक्षण अलग अलग होते है| किसी को बुखार व चकते निकल आते है, तो किसी को उलटी और बुखार होता है| ये सभी lakshan सामान्य फ्लू के भी है, तो ऐसे लक्षण होने पर आप यही ना समझे की आपको डेंगू हुआ है| अगर आप किसी ऐसी जगह से आ रहे है जहाँ dengue fever का मरीज था, और उसके बाद आप में ये लक्षण दिखाई पड़ते है तो जरुर अपने डॉक्टर से संपर्क करें|

डेंगू बुखार के कारण (Dengue Fever Causes)–

  • डेंगू का सबसे बड़ा कारण मच्छर है|
  • घर के आस पास पानी का जमा होना|
  • संक्रमित पानी व भोजन का सेवन करना|
डेंगू को सिर्फ लक्षण देखकर नहीं समझा जा सकता है, इसके लिए डॉक्टर की सलाह पर टेस्ट करवाने चाहिए| खून की जांच के बाद ही डेंगू फीवर कन्फर्म होता है| 3-4 दिन में मरीज का शरीर डेंगू के वायरस के खिलाफ लड़ नहीं पाता है और यह बढ़ने लगता है|

डेंगू बुखार से बचाव/ डेंगू के उपचार

(Dengue fever Treatment / Prevention)

डेंगू के उपचार का कोई specific Treatment नहीं है| यह एक तरह का वायरल है जिसके लिए कोई विशेष दवा या वेकसीन नहीं बनी है|
  • आराम करो और लिक्विड लेते रहो| इस दौरान शरीर में पानी की कमी नहीं होनी चाइये, इसलिए डॉक्टर द्वारा बताये पाउडर को पानी में डालकर पीते रहे|
  • इसकी दवा नहीं है लेकिन डॉक्टर अपने हिसाब से इसका इलाज करते है, व इसके साइड इफ़ेक्ट से बचने के लिए दवाई देते है, जिसे समय पर लेना चाहिए|
  • डॉक्टर के कहने पर बुखार के लिए paracetamaul खाएं| डॉक्टर अस्प्रिन जैसी दवाई खाने को मना करते है तो इसे ना लें|
  • घर एवं अपने आस पास साफ़ सफाई रखें|
  • किसी भी जगह पानी इकठ्ठा ना होने दे, जैसे कूलर, गमले|
  • मच्छर से बचने के लिए दवाई छिडकें|
  • शाम के समय दरवाजे खिड़की बंद रखें ताकि मच्छर ना आये|
  • बच्चों को मच्छरो से विशेष तौर पर बचाकर रखें|
  • डेंगू बुखार में खून की कमी हो जाती है, जिससे व्यक्ति की मौत हो जाती है|
  • खून की मात्रा बराबर रखने के लिए अच्छा संतुलित आहार लें|
  • डेंगू के मरीज को पपीते के पत्तों का रस पिलाना चाहिए इससे खून की कमी पूरी होती है|
डेंगू जैसी भयानक बीमारी के लिए मैंने आज कुछ इलाज hindi मे बताये है, आपको ये किस हद तक सही लगे हमें कमेंट में लिख कर बताएं| अगर आपके पास भी डेंगू से बचाव का कोई उपचार है तो हमारे साथ जर्रोर शेयर करें|

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.