Header Ads

JNU बोला- संस्थान 45 करोड़ के घाटे में, सेवा शुल्क लेना जरूरी, शिक्षक संघ बोला- फिजूलखर्ची से आई कमी

जेएनयू का कहना है कि संस्थान 45 करोड़ के घाटे में है और उस पर ठेका श्रमिकों के वेतन, बिजली और पानी के बिलों का बोझ बढ़ गया है।

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.