Header Ads

किराड़ी हादसाः भयावह था मंजर, चारों ओर थी चीख-पुकार, गेट तपकर हो गए थे लाल

रात के सवा बारह बजे थे। अचानक इंदिरा एन्क्लेव के मकान नंबर-204 के ग्राउंड फ्लोर पर बने कपड़े के गोदाम से धुआं निकलने लगा। देखते ही देखते लपटें निकली और आग ने भयावह रूप धारण कर दिया।

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.