Header Ads

भैया...कुंडी लगी है, दरवाजा खोलो नहीं तो मर जाएंगे, आग नहीं साजिश में मारे गए नौ लोग?

पहली मंजिल पर फंसे उदयकांत ने मौत से पहले अपने भाई, बहन और अन्य लोगों को फोन कर बचाने की गुहार लगाई थी। उसके भाई संजीव ने बताया कि रात में उदयकांत का फोन आया।

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.